Feelings, Hindi, Hindi-Urdu Poetry, Life, Zindagi

Life-Zindagi…

Zindagi jab chalti hai,
Sawalon ke jawab,
Jawabon ke sawal hote Hain,
Zindagi badalti hai khud apne panne,
Hum toh mahaz ek misaal hote hain–एच.पी. Kahin

ज़िंदगी जब चलती है,
सवालों के जवाब,
जवाबों के सवाल होते हैं,
जिंदगी बदलती है खुद अपने पन्ने,
हम तो महज़ एक मिसाल होते हैं–एच.पी. Kahin

कि सिलसिला मेरी इश्कबाज़ी का चलता रहा,
दुनिया मुझे, मैं दुनिया को पागल समझता रहा,
दरख़्तों की छांव, तो कभी पत्तों से आती धूप ने तेरी मौज़ूदगी का पता तो दिया,
पर फिर भी ये दिल जिंदगी जीने में ही उलझा रहा –एच.पी. Kahin

Ki Yun hee silsila Meri ishqbaazi ka chalta raha,
Duniya mujhe main duniya ko pagal samajhta raha,
Darakhton ki chaon toh kabhi ,
Patton see aati dhoop ne Teri maujoodagi ka pata toh Diya
Par phir bhi yeh Dil Zindagi jeene mein hee uljha raha  — एच.पी. Kahin

NAA hoti hai subah iss kadar,
NAA dhalti hai shaam yunhii,
Yeh to hai sang humsafar ka jo aasaan lage hai Zindagi.. — एच.पी. Kahin

ना होती है सुबह इस क़दर न होती है शाम यूं ही
ये तो है संग हमसफ़र का जो आसान लगे है जिंदगी.. — एच.पी. Kahin

Subah see shaam shaam see subah baas yuhiin dhall rahi yeh zindagi,
Na dhoonnd sake na kar sake poora,  Kya hai maksade e Zindagi,
Na jaane kitne ahsaano tale hai dabi yeh zindagi,
Bojh bankar jiyoon hai nahi fitrat Meri,
Phir kyun, kyun.. bojh si lag rahi yeh zindagi,
NAA keh sakoon na mita sakoon Jo likh rahi yeh zindagi,
Jaanti huun yeh lamha bhi guzar jaayega, koi toh
Suraj hoga Naya, Jo nayi subah lekar aayega, intezaar kar rahi,
Jaisii bhi hai main jee rahi yeh Zindagi — एच.पी. Kahin

यूं मुट्ठी में बंद रेत सी बह चली, ये ज़िंदगी, शाम ढलने से पहले जज़्ब करलो इन लम्हों को…
यूं ही कहा है किसी ने कल हो ना हो, कल हो ना हो –एच.पी. Kahin