Daily POST, Hindi, Hindi-Urdu Poetry, Poetry

साँस कहती है क्या सुन-Breath saying something

ये साँस कुछ कह रही है,

थमने से पहले जी भर के जीने का अंदेशा दे रही है ,

ये साँस कुछ कह रही है,

यूँ ही बेख़बर न रह, अपनी ही पहचान से,
आती जाती इन् सांसों के साथ पहचान भी कुछ खो सी रही है,
कर ले पहचान खुद से ही पहले,
बाकी, ये दुनिया तो अपने ही मसलों के,
ताने बाने पिरो रही है,

अरे जाग ज़रा!
ये साँस कुछ तो कह रही है!

This breath is saying something, try to listen to it, a message to live the life to its fullest. This breath is saying something, don’t be so unaware of your own self, with every breath your identity is also fading, before anything else please be friend with yourself, rest of the world is already busy with its own chores, Please awake and listen what your breath is saying!!!

Live life to it’s fullest!!

 

6 thoughts on “साँस कहती है क्या सुन-Breath saying something”

  1. कर ले पहचान खुद से ही पहले,
बाकी, ये दुनिया तो अपने ही मसलों के,
ताने बाने पिरो रही है, bilkul sahi kaha

    Liked by 1 person

Comments are closed.