Hindi, Hindi-Urdu Poetry, Poetry

आहिस्ता ज़िन्दगी

Guzar rahi thi yuhiin aahista see Zindagi,

Uski ek khanak ne Zindagi ke falsafe badal diye!

गुज़र रही थी यूहीं आहिस्ता से ज़िन्दगी,

उसकी एक खनक ने ज़िन्दगी के फलसफे बदल दिए!

Advertisements

7 thoughts on “आहिस्ता ज़िन्दगी”

Comments are closed.